Breaking News

चलती रेल से हवाला की 3 करोड़ की रकम चोरी? पढिये एंटी करप्शन पड़ताल..!

मध्यप्रदेश/खण्डवा-अनूप कुमार खुराना

13 मार्च को महानगरी एक्सप्रेस के कोच नंबर S10 में सफर कर रहे भोपाल के निवासी विकास यादव नें 19 मार्च 2019 को जीआरपी खंडवा में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसके साथ 4 से 5 अज्ञात लोगों ने जिन्होंने खुद को पुलिस वाला बताया था,के ₹500000 चोरी कर लिए हैं । विकास यादव की फरियाद पर खंडवा जीआरपी थाने में चोरी सहित अन्य धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध कर मामले को जांच में लिया गया इस मामले में रोचक मोड़ तब आया जब घटना के 14 दिन बाद गुजरात के अहमदाबाद में रहने वाला मेहुल पिता कांतिलाल पटेल नामक व्यक्ति जीआरपी खंडवा को शिकायत दर्ज कराता है कि वह भी महानगरी एक्सप्रेस में सफर कर रहा था उसके साथ भी कथित पुलिस वालों ने मिलकर उसके तीन करोड़ रुपए चोरी कर लिए हैं। चलती ट्रेन से इतनी बड़ी चोरी की वारदात सुनकर जीआरपी खंडवा से लेकर भोपाल तक अधिकारी स्तब्ध रह गए। जी आर पी सहित रेलवे पुलिस की कई टीमें इस चोरी की वारदात को ट्रेस करने में जुट गई उन्हें सफलता भी मिली। वारदात के कुछ दिन बाद खंडवा जीआरपी ने 5 लोगों को हिरासत में लेकर उनके कब्जे से एक करोड़ 51 लाख ₹60000 कि मशरू का बरामद भी कर ली। जिन 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया और में एक ही परिवार के 4 लोग थे जो आपस में काका बाबा के लड़के थे। इसके अलावा एक अन्य जो जीआरपी से रिटायर हुए सब इंस्पेक्टर का बेटा था,कुल मिलाकर इस मामले में 5 लोगों को आरोपी बनाया गया है जिसमें से मोनू कुंदवानी नामक युवक अभी फरार बताया जा रहा है। पकड़े गए युवकों के अनुसार मोनू 10000000 रुपए लेकर फरार है मोनू से अभी रिकवरी होना बाकी है जैसा कि पुलिस ने बताया । जिन आरोपियों को खंडवा जीआरपी ने पुलिस हिरासत में ले रखा है,उनमें अक्षय पिता स्वर्गीय श्याम कुंदवानी,देवेश पिता राम कुमार कुंदवानी निवासी दमोह, रिटायर सब-इंस्पेक्टर का बेटा संजय पिता देवीलाल जाटव निवासी राजगढ़ एवं नारायण पिता हरनाम आहूजा निवासी इटारसी शामिल है। पुलिस ने इनके कब्जे से अभी तक डेढ़ करोड़ रुपए की रकम बरामद कर ली है के अलावा सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार लगभग ₹5000000 की रकम खंडवा जीआरपी ने ओर रिकवर करने में सफलता हासिल की है। हालांकि पुलिस इस बात की पुष्टि नहीं कर रही है ।इस पूरी वारदात में खंडवा जीआरपी सहित खुलासा करने में शामिल अन्य टीमों का काम काबिले तारीफ है। अज्ञात नकाबपोश लोगों द्वारा करोड़ों रुपए की चोरी करने के कुछ दिनों बाद 2 करोड रुपए की मशरूका बरामद करना सराहनीय काम है। खंडवा जीआरपी ने इस मामले में दो तरह के क्राइम में से एक क्राइम का तो खुलासा कर दिया है परंतु दूसरी बड़ी वारदात की ओर इशारा कर रहे सवालों के संबंध में कोई खुलासा अभी तक नहीं किया है ?

फोटो में 3 करोड़ रूपये की चोरी का आरोपी. ..

इन सवालों के जवाब मिलना बाकि….?

इस पूरी वारदात में फरियाद करने वाले भी संदेह के घेरे में हैं ? 13 मार्च को चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया परंतु भोपाल निवासी विकास यादव 19 मार्च को मध्य प्रदेश की खंडवा जीआरपी में घटना के 6 दिन बाद चोरी की फरियाद दर्ज कराता है, के अलावा वारदात के 14 दिन बाद 3 करोड रुपए की चोरी की फरियाद अहमदाबाद निवासी मेहुल पटेल दर्ज कराता है, यह तर्क देकर कि उसकी तबीयत खराब हो गई थी,बहुत से सवालों को जन्म देता है । इस तरह के मामलों की जानकारी रखने वाले लोगों की माने तो रेलवे के माध्यम से पूरे देश में हवाला का कारोबार तेजी से फल फूल रहा है ? इस घटना में भी हवाला कारोबार का रुपया होने की पूरी संभावना है क्योंकि आज के इंटरनेट बैंकिंग के दौर में जहां आम आदमी कुछ हजार रुपे पर्स में लेकर चलना भी रिस्की समझता है वही 3 करोड रुपए की चोरी का फरियादी मेहुल पटेल जो खुद को अहमदाबाद की मेकटेक नामक कंपनी का कर्मचारी बता रहा है,आखिर 3 करोड रूपए नकद लेकर किसे व कहां एवं क्यों देने जा रहा था ? आज के प्रतिस्पर्धा के दौर में जहां एक और कंपनियां चाय वाले के रुपए तक उसके अकाउंट में क्रेडिट करती है ताकि बैंकिंग को मजबूत कर फाइनैंशल इंस्टिट्यूशन से फाइनेंस करा सके जैसी स्थिति में भी अभिनेश शाह की अहमदाबाद की मेकटेक कम्पनि आखिर किस काम के लिये 3 करोड़ रूपये ट्रेन से भेज रही थी जबकि आज के दौर में बहुत सी ऐसी थर्ड पार्टी एजेंसी है जो आन पेपर कंपनियों से कैश लेकर टारगेट वाली जगह पर पहुँचाती हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि 3 करोड़ की चोरी का शिकार मेहुल पटेल बिना रिजर्वेशन 3 करोड रुपए लेकर ट्रेन में सफ़र कर रहा था। अहमदाबाद में नौकरी करने वाला मेहुल पटेल वारदात के 14 दिनों बाद खंडवा जीआरपी को आकर शिकायत दर्ज कराता है कि वह इटारसी से दादर जा रहा था ? जबकि अहमदाबाद से दादर के लिए सीधी ट्रेन मौजूद हैं । मेहुल पटेल 3 करोड रूपए लेकर इटारसी कैसे पहुंचा एवं कहां से 3 करोड रुपए लेकर आया ? आरोपियों को मेहुल पटेल की लोकेशन ओर करोड़ों के कैश की परफैक्ट जानकारी कैसे लगी..? इन जैसे कई और सवाल है जो इस पूरे मामले को हवाला से जोड़ने पर मजबूर कर रही हैं ?

एंटी करप्शन पड़ताल….

एंटी करप्शन ने इस मामले में गहन पड़ताल की है ।एंटी करप्शन की पड़ताल में यह बात निकल कर सामने आई की आगामी लोकसभा चुनाव में हवाला कारोबार जोरों पर है। हवाला कारोबार करने के लिए अलग-अलग तरीके अपनाए जा रहे हैं,जिसमें भारतीय रेलवे हवाला कारोबार का आसान जरिया बना हुआ है ? क्योंकि एंटी करप्शन के सूत्रों के अनुसार पिछले साल हवाला कारोबार करने वाले एक आरोपी के पास भारतीय रेलवे की 1 साल की जनरल टिकट बरामद की गई थी एवं आरोपी ने इस बात को कबूल आ भी था कि वह रेलवे के थ्रू हवाला का कारोबार किया करता था । एंटी करप्शन के सूत्रों के अनुसार 3 करोड रुपए की चोरी के मामले में पकड़े गए आरोपियों में से एक आरोपी हवाला कारोबार का हिस्सा रहा है, जिसके चलते उसे 3 करोड रुपए ले जा रहे व्यक्ति की लोकेशन एवं रूपों की परफेक्ट जानकारी थी ? हवाला की एक कंसाइनमेंट(खेंप) इधर से उधर पहुंचाने के लिए इन दिनों ₹70000 से लेकर ₹100000 तक का रेट तय है। फरियादी की अहमदाबाद स्थित कंपनी के संबंध में पड़ताल करने पर फरियादी द्वारा पुलिस को दिए गए बयान से इतर बातें निकल कर सामने आई है। फरियादी ने अपने बयानों में जिस तरह के कारोबार कंपनी द्वारा किए जाने की बात कही है,एंटी करप्शन को कंपनी के संबंध में बताये गये कारोबार जैसी कोई बात मौके पर नहीं मिली है……।

इस मामले में पूरी संभावना है कि हवाला के जरिए पहुंचाई जा रही रकम को हवाला कारोबार का हिस्सा रहे आरोपियों द्वारा चुरा लिया गया।इस बात की संभावना ओर प्रबल हो जाती है क्योंकि फरियादी मेहुल पटेल व उसके मालिक द्वारा पुलिस के समक्ष 3 करोड़ रूपये के सबूत अभी तक पेश नहीं किये गये हैं ?एंटी करप्शन के सूत्रों के अनुसार दोनों खण्डवा जीआरपी पुलिस का फोन भी नहीं उठा रहे हैं ।

इस पूरे मामले में खण्डवा जीआरपी नें 3 करोड़ रूपये की चोरी का खुलासा कर अपना लोहा जरूर मनवाया है पर फरियादियों द्वारा करोडो़ं रूपये नकद लेकर रेल में सफर करनें जैसे संदेही मामले पर बहोत से सवालों के जवाब देना बाकि है..!

About Anoop Kumar Khurana

Anoop Kumar Khurana

Check Also

बस्ते के वजन से सीडियों से गिरी छात्रा, करनी पड़ी रीढ़ की सर्जरी

पश्चिम बंगाल के एक स्‍कूल में 10वीं की एक छात्रा भारी बैग के वजन से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *