Breaking News

राजस्थान के लिये अमित शाह का सैल्फी वाला माईक्रो मैनेजमैंट..?

राजस्थान में शुक्रवार को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी है. बीजेपी नेतृत्व का मानना है कि पार्टी ने जितनी ताकत पूरे चुनाव प्रचार में लगाई है, उससे कहीं ज़्यादा ताकत वोटरों को मतदान केंद्र तक लाने में लगानी होगी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इसका रोड मैप पहले से ही तैयार कर लिया है.

बूथ प्रबंधकों का व्हाट्सएप ग्रुप

बीजेपी की प्लानिंग के मुताबिक सभी उम्मीदवार अपनी-अपनी विधानसभा के बूथ इंचार्ज के साथ बैठक करेंगे. सूत्रों की मानें तो बीजेपी ने हर विधानसभा में बूथ प्रबंधकों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है. इस ग्रुप में पार्टी का उम्मीदवार, विधानसभा के प्रमुख नेता और मंडल अध्यक्ष, पन्ना प्रमुख भी होंगे.

वोटिंग पर हर घंटे अपडेट

सभी बूथ इंचार्ज हर एक घंटे में व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट देंगे कि उनके बूथ पर किसी खास गांव, कस्बे या फिर मोहल्ले के कितने वोट डाले जा चुके हैं. फिर पन्ना प्रमुख इस अपडेट के अनुसार अपने-अपने पन्ने के हिसाब से जिन वोटरों ने मतदान नहीं किया है, उन्हें मतदान केंद्र लेकर जाएंगे.

सभी पन्ना प्रमुखों ने अपने पेज के सभी वोटरों से सम्पर्क करना शुरू कर दिया है. ये पन्ना प्रमुख उनसे सुबह 10 बजे तक मतदान करने की अपील करेंगे. अगर कोई वोटर बाहर गया हुआ है तो उससे भी फोन पर सम्पर्क किया जाएगा और दोपहर 12 बजे से पहले पहुंचकर मतदान करने की अपील की जाएगी.

वोटिंग वाली सेल्फी

सूत्रों की मानें तो सभी पन्ना प्रमुखों ने अपने-अपने अंदर आने वाले सभी वोटरों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है. सभी वोटर मतदान के बाद मतदान का निशान दिखाते हुए अपनी सेल्फी व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर करेंगे, ताकि इससे ये साबित हो सके कि उन्होंने वोट डाल दिया है. इसके बाद पन्ना प्रमुख वोट करने वाले मतदाताओं की जानकारी बूथ इंचार्ज के साथ शेयर करेंगे.  इसके बाद इस जानकारी की जांच की जाएगी. इस तरह सभी पन्ना प्रमुख की व्हाट्सएप ग्रुप पर दी गई डिटेल को चेक करने के बाद हर एक घंटे के फासले पर विधानसभा के उम्मीदवार और मंडल अध्यक्षों के साथ मतदान की प्रगति की जानकारी को शेयर करेगा.

सूत्रों की मानें तो बीजेपी ने राजस्थान में केंद्र सरकार की गरीब कल्याण योजनाओं के 1 करोड़ 70 लाख लाभार्थियों की डिटेल विधानसभा के मंडल स्तर पर अपने नेताओं को दी है. जिन लाभार्थियों के पास स्मार्ट फोन हैं उनके व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाए गए हैं. इन सभी लाभार्थियों को शुक्रवार को सबसे पहले मतदान करने के लिए संदेश भेजे जा रहे हैं.

केंद्र सरकार की इन गरीब कल्याण योजनाओं के लाभार्थियों की जानकारी पन्ना प्रमुखों को भी मोहल्ले के हिसाब से दी गई है. पन्ना प्रमुख भी लगातार इनसे सम्पर्क में हैं. माना जाता है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इसी माइक्रो मैनेजमेंट की वजह से पिछले चार सालों में एक बाद के एक कई राज्यों में सरकारें बनवाई हैं. अब देखना है कि एक-एक वोटर को ध्यान में रखकर बनाई गई अमित शाह की चुनावी रणनीति क्या एक बार फिर राजस्थान में बीजेपी को सत्ता तक पहुंचाएगी.

कौन हैं पन्ना प्रमुख

चुनाव में मतदान के लिए एक लिस्ट बनाई जाती है. इसमें हर एक पेज पर वोटर्स के नाम होते हैं. बीजेपी अध्यक्ष ने हर एक पेज की जिम्मेदारी एक

कार्यकर्ता को दी और उन्हें पन्ना प्रमुख का नाम दे दिया. इससे गुमनाम कार्यकर्ताओं को भी एक पद और नाम मिल गया और उन्होंने पूरे जोश के साथ एक पन्ने के मतदाताओं को बूथ तक ले जाने की कोशिश की.

About Anoop Kumar Khurana

Anoop Kumar Khurana

Check Also

बस्ते के वजन से सीडियों से गिरी छात्रा, करनी पड़ी रीढ़ की सर्जरी

पश्चिम बंगाल के एक स्‍कूल में 10वीं की एक छात्रा भारी बैग के वजन से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *